मानक विद्यालय

मुख्य पृष्ठ > योजनायें> मानक विद्यालय
केद्रिय विद्यालयों के स्तर के अनुरूप ही मानक विद्यालयोंमें आधारभूत संसाधन एवं सुविधायें विकसित की जायेंगीं। मानक विद्यालयों की कतिपय विशेषतायें निम्नवत् हैं-

  • बच्चों के सम्पूर्ण विकास के उद्देश्य से समग्रता में शिक्षा उपलब्ध करना।
  • वर्तमान विद्यालयों को मानक विद्यालयों में परिवर्तित करना।
  • मानक विद्यालयों में केवल संतोषप्रद शिक्षा की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये ही नहीं अपितु क्रीड़ा एवं अन्य सह-पाठ्यक्रम गतिविधियों के लिये भी आधारभूत संसाधन होना आवश्यक है।
  • मानक विद्यालयों में क्रीड़ा मैदान, बाग-बगीचे एवं प्रेक्षागृह इत्यादि होंगे।
  • शिक्षा गतिविधि प्रधान होनी चाहिये।
  • विद्यालयों में सूचना संसार तकनीकी (आई.सी.टी.-ICT) संसाधन, इन्टरनेट सम्बद्धता एवं पूर्णकालिक कम्प्यूटर अध्यापक होने आवश्यक हैं।
  • अध्यापक छात्र अनुपात 1:5 (125) से अधिक नहीं होनी चाहिये।
  • गतिविधियों की सुविधा सृजित करने हेतु कला एवं संगीत अध्यापक उपलब्ध कराये जायेंगे।
  • ऐसे विद्यालयों में स्वास्थ्य शिक्षा एवं स्वास्थ्य परीक्षण का प्रारम्भ किया जायेगा।
  • शैक्षिक शक्ति एवं कार्यक्षेत्र का व्यवहारिक कौशल ही इन विद्यालयों के संसोधन/सुधार हेतु अभिन्न आवश्यकता होगी।

मानक विद्यालयों की स्थापना-

  • ये विद्यालय वर्तमान प्रदेश सरकार के मानक विद्यालयों में परिवर्तित विद्यालय अथवा पूर्णरूपेण नवीन विद्यालय होंगे।
  • जहॉं कहीं भी आवश्यकता हो, प्रदेश सरकार द्वारा इन विद्यालयों की स्थापना के लिये भूमि उपलब्ध करायी जायेगी।
  • ये विद्यालय शैक्षिक रूप से पिछड़े ब्लाकों में स्थापित किये जायेंगे किन्तु अनूसूचित क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जायेगी।
  • ऐसी प्रादेशिक संस्थाओं द्वारा विद्यालयों का निर्माण किया जायेगा जो इन विद्यालयों का प्रबन्धन कर सकें। अतएव इन संस्थाओं पूंजीगत लागत में राज्यांश का ऋण दिया जायेगा।
  • प्रदेश सरकार द्वारा ब्लाक,जनपद एवं प्रदेश स्तर पर पर्यावेक्षण समितियां स्थापित की जायेंगीं जिनमें केन्द्र सकरार के भी सदस्य होंगे।
  • केन्द्र सरकार के पास राज्य सरकार के आधीन 3500 विद्यालयों का निर्माण किया जाना है और इनको प्रादेशिक संस्थाओं के निमित्त अवमुक्त कर दिया जायेगा।
  • केन्द्र सरकार द्वारा इस योजना को अवमुक्त कर दिये जाने के बाद राज्य सरकार द्वारा इस योजना को क्रियान्वयन संस्थाओं के पक्ष में अवमुक्त कर दिया जायेगा।